India News24

indianews24
Search
Close this search box.

Follow Us:

Maha Kumbh Mela: 15 करोड़ श्रद्धालुओं के लिए 800 स्पेशल ट्रेनें, महाकुंभ को लेकर रेलवे कर रहा तैयारी

Rail update Rajasthan

प्रयागराज. Maha Kumbh Mela: प्रयागराज में 2025 में मकर संक्रांति से लगने वाले महाकुंभ के लिए रेलवे प्रशासन ने अभी से तैयारी तेज कर दी है। कुंभ मेला परिक्षेत्र में पड़ने वाले पूर्वोत्तर रेलवे के रामबाग और झूसी स्टेशन का कायाकल्प शुरू कर दिया गया है। इन स्टेशनों के विकास के अलावा परिक्षेत्र में बनने वाले ओवरब्रिज, अंडरब्रिज, यात्री सुविधाओं के विकास के लिए 95 करोड़ का बजट जारी हो चुका है। महाकुंभ में 15 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के पहुंचने की उम्मीद है। रेल मंत्रालय ने श्रद्धालुओं के लिए पूर्वोत्तर रेलवे सहित देश से 800 से अधिक मेला स्पेशल ट्रेन चलाने की योजना तैयार की गई है। वर्ष 2019 के अर्द्धकुंभ के दौरान करीब 400 स्पेशल ट्रेनें चलाई गई थीं। पूर्वोत्तर रेलवे जोन के वाराणसी मंडल अधीन वाराणसी से झूसी तक दोहरीकरण (डबलिंग) पूरा हो गया है।

रामबाग स्टेशन पर अब सात प्लेटफार्म होंगे

झूसी से प्रयागराज रामबाग के बीच गंगा पर ओवरब्रिज का निर्माण तेजी किया जा रहा है। दिसंबर तक पुल का निर्माण पूरा कर लिया जाएगा। इसके बाद डबल लाइन पर वाराणसी से प्रयागराज रामबाग तक मांग के अनुसार ट्रेनें चलाई जा सकेंगी। कुंभ मेला परिक्षेत्र में पड़ने वाले प्रयागराज रामबाग स्टेशन पर छह की जगह सात प्लेटफार्म होंगे। सुरक्षा के लिए 97 सीसी कैमरे लगाए जाएंगे। एक और फुटओवर ब्रिज बन रहा है। झूसी में भी तीन की जगह चार प्लेटफार्म बनेंगे। 40 की जगह 80 सीसी कैमरे होंगे। यात्रियों की सुविधा के लिए सेकेंड इंट्री के अलावा स्टेशनों पर अतिरिक्त टिकट काउंटर, प्रतीक्षालय, प्रसाधन केंद्र, सड़क, पानी और बिजली की समुचित व्यवस्था की जाएंगी। इसके अलावा उद्घोषणा यंत्र लगाए जाएंगे।

इन स्‍टेशनों का हो रहा विकास

पूर्वोत्तर रेलवे के प्रयागराज रामबाग और झूसी के अलावा उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज जंक्शन, प्रयागराज छिवकी, सुबेदारगंज और नैनी जंक्शन तथा उत्तर रेलवे के प्रयाग जंक्शन और प्रयागराज संगम स्टेशनों का पिछले तीन साल से विकास और विस्तार किया जा रहा है। ठीक एक साल पहले जून 2023 में रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने संबंधित जोन के महाप्रबंधकों की बैठक लेकर महाकुंभ की तैयारियों की समीक्षा की थी।

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *