India News24

indianews24
Search
Close this search box.

Follow Us:

वायु सेना के विमान AN-32 के हवा में हो गए थे दो टुकड़े, अब आठ साल बाद समंदर में मलबा बरामद

नई दिल्ली. IAF AN–32 Aircraft: भारतीय वायु सेना का लापता AN–32 यातायात विमान मिल गया है। चेन्नई के तांबरम हवाई अडडे से पोर्ट ब्लेयर जाते समय यह विमान बंगाल की खाड़ी में रहस्यमयी तरीके से गायब हो गया था।इस विमान ने 22 जुलाई 2016 को सुबह आठ बजे IAF एंटोनोव AN–32 ने चेन्नई के तांबरम के वायुसेना स्टेशन से उड़ान भरी थी। आठ साल बाद अब इसका मलबा मिला है। इस विमान में 12 वायुसैनिक, एक नौसैनिक, एक थल सैनिक और कोस्टगार्ड का एक जवान, आठ नागरिक सहित छह क्रू मेंबर कुल 29 जने शामिल थे।

AUV से खोजा मलबा

इस विमान की खोज आठ साल से की जा रही थी। विमान का पता लगाने के लिए पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अंतर्गत राष्ट्रीय महासागर प्रौद्योगिकी संस्थान भी लगा था। इस संस्थान ने एक स्वायत्त पानी के नीचे के वाहन AUV का उपयोग कर इस विमान को खोज निकाला। यह 3400 मीटर नीचे पड़ा मिला था।

इस तकनीक का का किया प्रयोग

संस्थान ने मल्टी-बीम सोनार, सिंथेटिक एपर्चर सोनार और उच्च रिजॉल्यूशन फोटोग्राफी सहित कई पेलोड का उपयोग विमान खोजने में किया। इसके बाद तस्वीरों में चेन्नई तट से करीब 310 किलोमीटर दूर समुद्र तल पर एक दुर्घटनाग्रस्त विमान के मलबे का संकेत मिला। तस्वीर विश्लेषण में यह मलबा AN-32 का पाया गया।

23 हजार फीट पर टूट गया था संपर्क

22 जुलाई 2016 को जब यह साप्ताहिक उड़ान पर था तो 23 हजार फीट की ऊंचाई पर विमान से सुबह 9ः15 बजे संपर्क टूट चूका था। इसके बाद से वह रडार से पूरी तरह गायब हो गया। इसके बाद इस विमान को खोजने के लिए 200 से अधिक हवाई उड़ानें भरी गई थी। नौसेना और तटरक्षक के जहाजों ने करीब 28 हजार वर्ग समुद्री मील में खोज की। इसके बाद में IAF ने हार मान सभी को मृत घोषित कर दिया।

क्यों नहीं मिल रहा था विमान

बंगाल की खाड़ी के ऊपर गायब हुए इस AN -32 में कोई अंडरवाटर लोकेटर बीकन स्थापित नहीं था। जब कोई विमान समुद्र में डूब जाता है तो ये बीकन रेडियो सिग्नल उत्सर्जित करते हैं। फिर सिग्नलों को पनडुब्बियों या जहाजों की मदद से पिक किया जाता है। बिकान से ही समुद्र में दुर्घटनाग्रस्त विमान का पता लगाने में मदद मिलती है।

indianews24
Author: indianews24

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *