India News24

indianews24
Search
Close this search box.

Follow Us:

DRDO ओडिशा में करने वाला था मिसाइल टेस्ट, यहां इन  छोटे जंतुओं ने मिशन को कर दिया नाकाम!

नई दिल्ली. ओडिशा तट के पास व्हीलर द्वीप पर रक्षा अनुसंधान विकास संगठन (डीआरडीओ) ने मिसाइल परीक्षण रोकने का फैसला किया है। दरअसल जनवरी से मार्च तक ओलिव रिडले समुद्री कछुओं के बड़े पैमाने पर घोंसले बनाने का मौसम होता है। इससे लुप्तप्राय प्रजाति को जीवित रहने की दौड़ में जीत हासिल करने का मौका मिलेगा। विशेषज्ञों के अनुसार जनवरी से मार्च के दौरान मिसाइल टेस्टिंग, नावें और लोगों की आवाजाही से द्वीप पर समुद्री कछुओं के बड़े पैमाने पर घोंसले बनाने और उनके ब्रीडिंग पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है।

सेना और कोस्ट गार्ड रहेंगे तैनात

जहां ओलिव रिडले अंडा देने के लिए घोसला बनाती हैं वहां सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। मछुआरों और मछली पकड़ने वाली नौकाओं को भी खाड़ी पास रेत की पट्टियों के पास जाने से रोकने के लिए सेना और कोस्ट गार्ड तैनात कर दिए हैं।

बताया जा रहा ये कारण 

इस मसले को लेकर ओडिशा के मुख्य सचिव पीके जेना की अध्यक्षता वाली एक समिति ने बैठक की जिसमें पहलुओं को चर्चा की गई। इसमें समिति ने शामिल विशेषज्ञों ने बताया कि मिसाइल परीक्षणों से निकलने वाली तेज़ रोशनी, तेज़ आवाज़ें कछुओं को प्रभावित करती हैं। इस कारण कछुए विचलित हो जाते हैं। इससे इन कछुओं को बचाना जरूरी है ताकि ब्रीडिंग में परेशानी न आए। हाल ही में आए डेटा के मुताबिक गंजम जिले के रुशिकुल्या किश्ती में लगभग साढ़े छह लाख समुद्री कछुए भी बसेरा करते हैं। प्रदेश सरकार ने एहतियातन पहले ही 1 नवंबर से अगले साल 31 मई तक तट के उस हिस्से में मछली पकड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

मीडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक वन्यजीव प्रभाग ने मौसमी वन शिविर स्थापित करने के लिए व्हीलर द्वीप की परिधि के बाहर जगह उपलब्ध कराने का आग्रह किया है। इसका उपयोग बेस के तौर पर किया जाएगा। कोई गड़बड़ी न हो, कछुओं की विलुप्त हो रही इस प्रजाति को कोई दिक्कत ना आए इसलिए वन विभाग के साथ कोस्ट गार्ड की टीम भी गश्त करेगी।

indianews24
Author: indianews24

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *