India News24

indianews24
Search
Close this search box.

Follow Us:

Truck Strike: देशभर में थम गए लाखों ट्रकों–बसों के चक्के, परेशान हो गए लोग, अब अनिश्चितकालीन हड़ताल का बन रहा ये प्लान

नई दिल्ली.  देश में बसों–ट्रकों के चक्के नए साल के पहले दिन थम गए। इसमें प्राइवेट बसों ट्रकों से लेकर सरकारी महकमें की बसें शामिल रही। सोमवार को देश के ज्यादातर राज्यों के हाईवेज पर ट्रक और प्राइवेट बसें खड़ी नजर आई। यही नहीं सरकारी बसों के पहिए भी इस हड़ताल में थम गए। ऐसे में देश के अलग-अलग राज्यों में सफर करने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। इधर राष्ट्रीय राजमार्गों पर हड़ताल के चलते कई जगहों पर भारी जाम भी लगा।   ऑल इंडिया ट्रक और बस ड्राइवर संगठन का कहना है ड्राइविंग के दौरान हुई दुर्घटना के लिए बनाया गया नया कानून अगर नहीं बदला तो यह स्ट्राइक अनिश्चितकालीन बढ़ाई जाएगी।

ऑल इंडिया ट्रक और बस ड्राइवर संगठन सहित अलग-अलग ड्राइवर संगठन के लोगों ने 1 जनवरी से 3 जनवरी तक का ‘स्टेरिंग छोड़ो’ के नाम से चक्का जाम शुरू कर दिया है। संगठन के सोनू यादव कहते हैं कि आपराधिक कानूनों में किए बदलाव के कारण हिट एंड रन केस में भी सजा बढ़ा दी है। जिसके चलते देश में ट्रक और बस चालकों ने विरोध प्रदर्शन किया है। सजा की अवधि बढ़ाए जाने के खिलाफ बस और ट्रक ड्राइवरों के साथ-साथ ऑटो चालकों ने भी मोर्चा खोल दिया है।

ये भी पढ़ें: गैंगेस्टर गोल्डी बरार अब बब्बर खालसा का आतंकी,गृह मंत्रालय ने 1 जनवरी 2024 को जारी कर दिया नोटिफिकेशन

हिट एंड रन केस में नए कानून के तहत फरार और घातक दुर्घटना की सूचना नहीं देने पर ड्राइवरों को अब दो साल की नहीं, बल्कि 10 साल तक की जेल हो सकती है। उनका कहना है कि सड़कों पर रोजाना लाखों की संख्या में ट्रक ड्राइवर चलते हैं और कई दुर्घटनाएं भी होती हैं। ऐसी दुर्घटनाओं में अक्सर ड्राइवर अपनी जान बचाकर निकलता है। भले ही गलती ट्रक ड्राइवर की हो या ना हो।

अगर ड्राइवर वहां पर रुक जाए तो मौजूद भीड़ हत्या तक कर सकती है। अब नए कानून में अगर वह ड्राइवर भाग जाता है तो उसको 2 साल की जगह पर 10 साल की सजा और सात लाख रुपए का जुर्माना देना होगा।ऑल इंडिया ट्रक और बस ड्राइवर संगठन का कहना है कि इस जुर्माना और सजा के खिलाफ ही उनका चक्का जाम शुरू हुआ है। इस चक्का जाम का असर उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़, पंजाब, हरियाणा और महाराष्ट्र, राजस्थान समेत देश के ज्यादातर राज्यों के राजमार्ग पर दिखा। 

ये भी पढ़ें: earthquake in Japan: जापान में भूकंप के 21 झटके, मच गया हाहाकार, 50 हजार घरों में बिजली हो गई गुल! भारत ने जारी किया मोबाइल नंबर

उत्तर प्रदेश में हजारों बसों के न चलने से सिर्फ सोमवार को ही सफर करने वाले यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सरकारी बस जो बस अड्डे में खड़ी थी वहां से नहीं हिली। ट्रक और बस ड्राइवर संगठन के बिहार चैप्टर से जुड़े रघुवीर प्रसाद ने बताया कि उनके राज्य में सड़कों पर ट्रक बस ड्राइवर ने गाड़ियां लगा दी है।  ऑल इंडिया ट्रक और बस ड्राइवर संगठन के सोनू यादव का कहना है कि जब तक कानून में बदलाव नहीं किया जाएगा तब तक यह हड़ताल जारी रहेगी।

पहले दिन व्यापक असर दिखा

फिलहाल पहले दिन पूरे देश में जिस तरीके की हड़ताल का व्यापक असर हुआ है उससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि केंद्र सरकार उनकी मांग जरूर सुनेगी। वह कहते हैं अगर ऐसा नहीं होता है तो आने वाले दिनों में संगठन और बड़े स्तर की रणनीति बनाकर पूरे देश में इस हड़ताल को आगे बढ़ाएंगे।

हाइवे पर चक्का जाम

नए कानून के विरोध में हुई हड़ताल का आलम यह रहा कि देश के अलग-अलग राज्यों के कई बड़े हाईवेज पूरी तरह सोमवार को दिन भर जाम रहे। हड़ताल की वजह से लोगों को न सिर्फ आने जाने में परेशानी हुई बल्कि राष्ट्रीय राजमार्गों पर जाम के चलते लोगों को बड़ी परेशानियों का सामना भी करना पड़ा।

indianews24
Author: indianews24

Facebook
Twitter
LinkedIn
WhatsApp

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *